माँ पूर्णागिरि धाम को ट्रस्ट बनाने पर हाई कोर्ट की मुहर

उत्तराखंड—–टनकपुर जिले के ठुलीगड़ स्थित माँ पूर्णागिरि धाम सुप्रसिद्ध है यहाँ पर हर वर्ष देश विदेश से श्रदालु दर्शन के लिए आते हैं। पहले यहां पर ट्रस्ट नहीं हुआ करता था। जिससे वहाँ आने वाला करोड़ो रुपयों के चढ़ावे का गबन हो जाता था। अब इसको ट्रस्ट बनाने  की शासन ने मंजूरी दे दी है। 

शासन के आदेश पर चम्पावत जिला प्रशासन ने ट्रस्ट के लिए पांच सदस्यीय कमेटी का गठन भी कर लिया है। यह कमेटी यहाँ से देश के भिन्न भिन्न धार्मिक ट्रस्ट पर जाकर वहाँ की व्यवस्था का अध्यन कर बायलॉज तैयार करेगी।

दरअसल टनकपुर निवासी नरेश सकारी ने 30 अप्रैल 2019 को हाई कोर्ट में याचिका दाखिल कर पूर्णागिरि धाम को जागेश्वर धाम की तर्ज पर ट्रस्ट बनाने की मांग की थी। सकारी का कहना था कि पूर्णागिरी मंदिर में प्रत्येक वर्ष लाखों भक्त आते हैं। और करोड़ो का चढ़ावा चढ़ाते है जिसका कोई हिसाब किताब नही रहता। 

नैनीताल हाई कोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस  रमेश रंगनाथन और जस्टिस एनएस धनिक की खंडपीठ पीठ ने कहा था कि 30 मई 2019 को राज्य सरकार को आदेश दिए थे की वह पूर्णागिरि ट्रस्ट निर्माण को लेकर तीन महीने के अंदर स्थिति स्पष्ट करे। साथ ही शासन अपर प्रशासन स्तर पर मामले की आख्या और जांच रिपोर्ट मांगी गई थी। तब से ये मामला शासन स्तर पर लंबित पड़ा था। 

अब शासन ने हाई कोर्ट के पूर्व आदेश के क्रम में पूर्णागिरि धाम को ट्रस्ट बनाने की सहमति प्रदान कर दी है। 

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles