All HC ने हाथरस रेप कांड में 16 जनवरी को दोनों पक्षों के समक्ष ऑडियो वीडियो क्लिप देखने आदेश दिया

हाथरस कांड की 2000 पन्नो की चार्जशीट सीबीआई ने हाथरस की स्थानीय कोर्ट में दाखिल कर दी है। दूसरी तरफ इलहाबाद हाइकोर्ट ने इस प्रकरण से संबंधित ऑडियो वीडियो क्लिप देखने के लिए 16 दिसंबर का प्रस्ताव रखा है। हाइकोर्ट ने निर्देश दिया है कि विभिन्न पक्षों के अधिवक्ताओं मौजूदा जिला मजिस्ट्रेट और एसपी समेत पीड़ित परिवार के एक या दो सदस्यों की मौजूदगी में रिकॉर्ड पर उपलब्ध ऑडियो वीडियो क्लिप दिखाया जाए।

हाइकोर्ट के जस्टिस पंकज मित्तल और जस्टिस राजन राय की खंडपीठ ने दोनों पक्षों के अधिवक्ताओं की सर्वसहमति से 16 दिसंबर की तारीख मुकरर करी है। इस ऑडियो क्लिप को देखने के लिए लखनऊ हाइकोर्ट के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग रूम या किसी उपयुक्त स्थान का चुनाव किया जाएगा। कोर्ट ने यह भी कहा है कि उपयुक्त स्थान का चयन करने के बाद दोनों पक्षों के वकीलों को सूचना दी जाएगी।

Read Also

आपको बता दें की हाथरस कांड में लोअर कोर्ट ने सीबीआई को 18 दिसंबर तक अपनी जांच रिपोर्ट न्यायालय के समक्ष पेश करने के निर्देश दिए थे। और इन्ही निर्देशो का अनुपालन में सीबीआई ने चारों आरोपियों के खिलाफ स्थानीय अदालत में आरोप पत्र दाखिल कर दिया है। सीबीआई द्वारा कोर्ट में पेश चार्जशीट में आरोपियों पर धारा 376, 376A ,376D समेत हत्या की धारा 302 के अलावा एससी/ एसटी एक्ट की धाराओं के  तहत चार्जशीट दाखिल की है। 

हाइकोर्ट में पीड़ित पक्ष की अधिवक्ता सीमा कुशवाहा ने कहा की जिलाधिकारी ने उनकी मांगों को स्वीकार नही किया है। जिलाधिकारी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बातचीत के आधार पर पीड़ित परिवार को लिखित रूप से आश्वासन दिया था। लेकिन मुआवजा के अलावा उनकी कोई मांग पूरी नही हुई ।

कोर्ट के समक्ष आरोपी पक्ष के अधिवक्ता एसवी राजू ने कहा कि राज्य सरकार और जिला मजिस्ट्रेट ने निर्देशानुसार नौकरी और घर आदि की कोई मांग स्वीकार नही की गई थी। दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने कहा की एक बार ऑडियो वीडियो सामग्री संबंधित वकील और दोनों पक्षों द्वारा देख ली जाय उसके बाद उन पर अपनी प्रतिक्रिया दर्ज कराने का अवसर खुलेगा। इस प्रकरण की अगली सुनवाई 27 जनवरी 2021 को होगी।

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles