बीएसएफ से निलंबित कॉन्स्टेबल की अर्जी सुप्रीम कोर्ट में खारिज

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को BSF के बर्खास्त कॉन्स्टेबल तेजबहादुर द्वारा मोदी के चुनाव को चुनौती देनी वाली याचिका को खारिज कर दिया है। उन्होंने वाराणसी से मोदी खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए पर्चा भरा था।जिसे इलेक्शन कॉमिशन ने रदद कर दिया था।

इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 18 नवंबर को सुनवाई कर फैसला सुरक्षित रख लिया था। इससे पहले कॉन्स्टेबल तेजबहादुर ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में भी याचिका दायर की थी। हाइकोर्ट ने कहा था कि वह न तो वाराणसी के वोटर है और न ही उन्होंने नरेन्द्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा है। इसलिए याचिका को खारिज किया जाता है। इस फैसले को तेज बहादुर ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

कॉन्स्टेबल ने दो बार नामंकन दाखिल किया

बॉर्डर सिक्योरिटी फ़ोर्स(BSF) कॉन्स्टेबल तेज बहादुर को बनारस के दो रिटर्निंग अफसर ने दो चुनावी हलफनामा में नौकरी से सस्पेंड होने की अलग अलग वजह बताने पर नोटिस जारी किया था। जिसका जबाब संतोषजनक न मिलने पर नामांकन पर्चा रदद कर दिया था।

आपको बता दे सपा बसपा गठबंधन ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ़ चुनाव लड़ने के लिए तेजबहादुर को उम्मीदवार घोषित किया था। लेकिन इससे पहले वह निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर पर्चा भर चुके थे। पर्चा भरते समय दोनों बार के हलफनामों में नौरी से बर्खास्तगी की अलग अलग वजह लिखने के कारण उनका पर्चा रदद कर दिया गया था।

Read Also

अनुशासनहीनता पर किया था बर्खास्त

बर्खास्त कांस्टेबल ने बीएसएफ में मिलने वाले खाने की गुणवत्ता को लेकर सवाल उठाए थे। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। जिस पर रक्षा मंत्री ने जांच के आदेश दिए थे। उसके बाद बी एस एफ ने अनुसाशनहिंनता के आरोप में बर्खास्त कर दिया था।

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles