पति से परेशान 60 वर्षीय बुजुर्ग महिला पहुँची कोर्ट- कहा 31 साल से परेशान हूँ अब बर्दाश्त के बाहर

दिल्ली कोर्ट में अजीबोगरीब मामला प्रकाश में आया जहाँ पति से परेशान 60 वर्षीय बुजुर्ग अपनी याचिका लेकर कोर्ट का दरवाजा खटखटाया

दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में एक 60 वर्षीय बुजुर्ग महिला अपने पति से प्रताड़ित हो न्याय की गुहार के लिए पहुँची । 

जहाँ महिला ने शादी के 31 वर्ष अपने ऊपर हो रहे प्रताड़ना और घरेलू हिंसा(domestic violence) का मामला दर्ज कराया है। 

महिला का कहना है कि वह पिछले 31 सालों से अपने ऊपर हो रहे अत्यचार को सहन कर रही है
लेकिन जब बर्दाश्त से बाहर हो गया तब उसने कानून से इंसाफ की गुहार लगाई है। 

पीड़ित बुजुर्ग महिला ने कहा कि उसके दो बच्चे हैं जिनकी शादी हो चुकी और वह अपने अपने घरों में खुशी से रह रहें हैं। 

वह खुद पर आत्मनिर्भर न होने के कारण 31 वर्ष से अपने ऊपर हो रही प्रताड़ना को झेलती रही
लेकिन अब उम्रदराज होने के कारण सहन नही होता ।

क्योंकि महिला की आयु 60 वर्ष है।

तीसहजारी कोर्ट की प्रतिक्रिया- 

दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने बुजुर्ग महिला द्वारा लगाए गए आरोप को संज्ञान में लेते हुए इसे बहुत ही शर्मनाक बताया कहा कि
महिला की उम्र 60 वर्ष है इस उम्र में भी उसको प्रताड़ित करना बड़ा शर्मनाक और निंदनीय है ।

कोर्ट ने कहा महिला की यह उम्र आराम से जीवन यापन करने की है।

आरोपी पति की अपील- आरोपी पति ने बुजुर्ग महिला द्वारा कोर्ट में दायर की गई अपील को
खारिज करने के लिए अर्जी लगाई है।

जिसमे पति ने कहा है कि पिछले कई दिनों से महिला गाजियाबाद में रह रही है
इसलिए इस फैसले को दिल्ली में नही सुना जाना चाहिए। 

जिस पर कोर्ट ने पति की याचिका खारिज करते हुए जमकर फटकार लगाई और
कहा है कि विगत 31 वर्षों से महिला दिल्ली में रह रही है।

इसलिए उसकी याचिका की सुनवाई दिल्ली कोर्ट में ही होगी।

कोर्ट का निर्णय

जस्टिस संजय शर्मा ने पूरे मामले को गम्भीरता से लेते हुए कोर्ट ने महिला अदालत(women court) को निर्देश दिए है कि
तत्काल महिला की गुजाराभत्ता पर निर्णय ले महिला को जल्द से जल्द आर्थिक मदद पहुचाई जाय।

कोर्ट ने अपने अन्तिम निर्णय लेते हुए कहा कि दोनों पक्ष फालतू में सुनवाई की तारीखें लेना बंद करें अन्यथा
कोर्ट उन्हें अदालत का समय बर्बाद करने का दोषी मानते हुए एक लाख रुपये तक जुर्माना ठोक सकती है।

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles