आरोपी ने कोर्ट में कहा, जज साहब में पुलिस बनने वाला हूं। इतना सुनते ही बचा लिया लड़के का भविष्य।

बिहार—- नालंदा स्थित डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए मारपीट के मामले में एक किशोर को उसकी योग्यता देखते हुए मुकदमे से बरी कर दिया। न्यायाधीश मानवेन्द्र मिश्रा ने इस प्रकरण में एक प्रतिभाशाली युवक को जीवन संवारने के सुनहरा अवसर प्रदान किया है। जज ने मारपीट के मामले की मात्र 13 दिनों में सुनावई करके उसे रिहाई दे दी है। 

आरोपी का पुलिस में हो चुका है चयन—- मारपीट के आरोपी युवक का केंद्रीय चयन परिषद में सिपाही के पद पर चयन हो चुका है। उसकी इस मेधा को देखते हुए कोर्ट ने उसे सिर्फ रिहा ही नही किया बल्कि एसपी को निर्देश दिया है कि  नाबालिग द्वारा किया गए अपराध का जिक्र उसके चरित्र प्रमाण पत्र में न किया जाय। 

जज की टिप्पणी—- किशोर न्याय परिषद के प्रधान दंडाधिकारी मानवेन्द्र मिश्रा के निर्णय का सदस्य उमा कुमारी और धर्मेंद्र कुमार ने भी समर्थन किया। न्यायाधीश मानवेन्द्र मिश्रा ने फैसले में कहा कि बच्चे का स्वभाविक गुण है जब वह माता-पिता और बड़ों को लड़ता दखते हैं। तो वह अपने परिवार के बचाव में शामिल हो जाता है। 

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles