उत्तर प्रदेश में पेंशन नियमों में आया बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश सरकार ने एक अध्यादेश के माध्यम से पेंशन नियमों में बड़ा बदलाव किया है।

यूपी में दिनांक 21.10.2020 को एक अध्यादेश लागू किया गया है, जिसका नाम उत्तर प्रदेश पेंशन हेतु अर्हकारी सेवा तथा विधिमान्यकरण अध्यादेश 2020 है।

इस अध्यादेश को दिनांक 01.04.1961 से लागू किया गया है।

उत्तर प्रदेश में पेंशन नियमों में आया बड़ा बदलाव

अध्यादेश की धारा में 2 में दिया गया है किः

किसी अधिकारी को पंेशन के हक के प्रयोजनार्थ किसी नियम, विनियम या शासनादेश में अन्तर्विष्ट किसी बात के होते हुए भी ‘‘अर्हकारी सेवा का तात्पर्य सरकार द्वारा विहित सेवा नियमावली के उपबन्धों के अनुसार किसी अस्थायी या स्थायी पद पर नियुक्त किसी अधिकारी द्वारा उक्त पद के लिए की गयी सेवाओ से है।

पिछले वर्ष सुप्रीम कोर्ट ने वर्कचार्ज कर्मचारियों के सबंध में प्रेम सिंह बनाम उत्तर प्रदेश राज्य के मामले में एक निर्णय दिया था। उक्त निर्णय में सुप्रीम कोर्ट ने यूपी रिटायरमेंट बेनिफिट रूल्स 1961 के नियम 3 के उपनियम 8 को रेड डाउन करते हुए कहा था कि वर्कचार्ज कर्मचारियों द्वारा की गयी सेवा भी अर्हकारी सेवा में जोड़ी जायेगी।

परन्तु इस अध्यादेश के बाद ‘‘अर्हकरीह सेवा‘‘ का अर्थ केवल उस सेवा से है, जो सरकार द्वारा विहित सेवा नियमावली के उपबन्धों के अनुसार किसी अस्थायी या स्थायी पद पर की गयी है।

यह सर्व विदित है कि वर्कचार्ज कर्मचारियों द्वारा की गयी सेवाएं किसी अस्थायी या स्थायी पद के विरूद्ध नहीं होती।

साथ ही यह सेवा सरकार द्वारा विहित सेवा नियमावली के उपबन्धों के अन्तर्गत भी नहीं होती है।

विधिमान्यकरण

अध्यादेश की धारा 3 में दिया गया है कि

किसी न्यायालय के किसी निर्णय, डिक्री या आदेश के होते हुए भी इस अध्यादेश के प्रारम्भ होने के पूर्व उत्तर प्रदेश रिटायरमेंट बेनिफिट रूल्स 1961 के नियम 3 के उपनियम 8 के सम्बन्ध में या तद्धीन कृत या की गयी तात्पर्यित कोई कार्यवाही, या इस अध्यादेश के उपबन्धों के अधीन किये जाने हेतु और सदैव से विधिमान्यकृत समझी जायेगी, मानो इस अध्यादेश के उपबन्ध दिनांक 01.04.1961 से समस्त सारवान समयों पर प्रवत्त थे।

उपरोक्त धारा 3 से स्पष्ट है कि यह अध्यादेश किसी भी कोर्ट के निर्णय या आदेश के होते हुए भी लागू होगा, अर्थात् अगर किसी निर्णय या आदेश में इसके इतर दिया गया है, तो भी यह अध्यादेश लागू होगा।

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles