लखनऊ के सन हॉस्पिटल पर कार्यवाही करने पर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने लगाई रोक

लखनऊ-मंगलवार को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कोविड प्रबंधन से संबंधित जनहित याचिका पर सुनवाई की। इस सुनवाई के दौरान सन हॉस्पिटल की ओर से इंटरविनर एप्लिकेशन दाखिल की गईं। जिसमे यह कहा गया की जिलाधिकारी लखनऊ द्वारा जो नोटिस जारी किया गया था उसका जवाब सन अस्पताल द्वारा 5 मई को 5 बजे से पहले अधिकारियों के समक्ष दे दिया गया था, लेकिन उसकी कोई प्राप्ति की राशिद सन हॉस्पिटल को नही दी गई।

सन हॉस्पिटल की तरफ से यह भी कहा गया कि 1 और 2 मई को हॉस्पिटल में प्रशासन द्वारा कोई भी ऑक्सीजन की सप्लाई नही की गई जिसके कारण हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी खड़ी हो गई थी और अस्पताल को नोटिस चस्पा करना पड़ा था।

साथ ही अस्पताल के पक्षकार अधिवक्ता अमरेंद्र नाथ त्रिपाठी की तरफ से कहा गया की पिछली तारीख पर इलाहाबाद हाई कोर्ट के समक्ष जब डीएम लखनऊ उपस्थित हुए थे, तो उन्होंने झुठा बयान दिया था कि सन हॉस्पिटल के पास पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सिलिंडर थे।

जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा और अजीत कुमार की पीठ ने यह निर्देश दिया है कि सन अस्पताल की एप्लिकेशन पर जिलाधिकारी से आख्या मांगकर जवाब का शपथपत्र दाखिल किया जाएगा और जब तक कि यह मामला कोर्ट में लंबित है तब तक सन हॉस्पिटल और उसके स्टाफ के खिलाफ किसी भी तरह की कोई कार्यवाही नही की जाएगी।

Also Read

गौरतलब है कि 3 मई 2021 को सन हॉस्पिटल ने एक नोटिस चस्पा किया था जिसमें कहा गया था कि सन हॉस्पिटल के पास ऑक्सीजन खत्म हो गई है और जो यहाँ मरीज भर्ती हैं वह किसी और अस्पताल में चले जाएं। इस बात के वायरल होने के बाद हाई कोर्ट ने स्वतः इस मामले को संज्ञान में लेते हुए डीएम से रिपोर्ट तलब की थी। इसके बाद ज़िलाधिकारी लखनऊ ने इस मामले FIR भी दर्ज करवा दी थी।

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles