नवाब मलिक को बॉम्बे हाईकोर्ट से लगा झटका- नहीं कर पाएँगे समीर वानखेड़े के बारे में ट्वीट

समीर वानखेड़े के पिता को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है। बॉम्बे हाईकोर्ट ने नवाब मलिक की अंडर्टेकिंग पर निर्देश दिया है कि अब वे वानखेड़े परिवार के खिलाफ कुछ भी प्रकाशित नहीं कर पाएंगे। साफ तौर पर कहा गया है कि सीधे तौर पर या इशारों में भी परिवार के खिलाफ कोई बयानबाजी नहीं की जाएगी।

नवाब मलिक को कोर्ट से लगा झटका

Advertisements

Advertisement

जानकारी के लिए बता दें की समीर वानखेड़े के पिता ने बॉम्बे हाई कोर्ट में अपील की थी कि नवाब मलिक उनके और उनके परिवार के खिलाफ बेवजह बयानबाजी न करें।

उन्होंने इस पर रोक लगाने की अपील की। अब इसी मामले में नवाब मलिक को कोर्ट ने झटका दिया है। अब वह समीर वानखेड़े और उनके परिवार के खिलाफ कोई बयानबाजी नहीं कर पाएंगे।

वानखेड़े परिवार के खिलाफ बयानबाजी नहीं करेंगे

सुनवाई के दौरान नवाब मलिक और वानखेड़े के वकील के बीच तीखी नोकझोंक हुई। एक बहस यह भी थी कि नवाब मलिक समीर वानखेड़े की बहन को लगातार लेडी डॉन कहकर संबोधित कर रहे थे। इस पर मलिक के वकील ने कहा था कि फ्लेचर पटेल नाम के शख्स ने ऐसा कहा था और उनके मुवक्किल ने ही शेयर किया था।

लेकिन इस दलील को खारिज करते हुए कोर्ट ने साफ तौर पर कहा कि जब तक मामले की सुनवाई चल रही है, इस तरह के बयान और आरोप नहीं लगाए जाएंगे। न्यायमूर्ति कथावाला ने सीधे नवाब मलिक के वकील से पूछा कि क्या उनके मुवक्किल इस तरह के बयान देना बंद कर देंगे।

जस्टिस ने कहा – क्या यह आपको शोभा देता है?

इस पर जवाब दिया गया कि नौ दिसंबर तक नवाब मलिक वानखेड़े और उनके परिवार के खिलाफ कोई पोस्ट शेयर नहीं करेंगे। अब नवाब मलिक को न केवल कोर्ट ने झटका दिया है, बल्कि कड़े अंदाज में यहां तक कह दिया है कि इस तरह की बयानबाजी उन्हें शोभा नहीं देती।

सुनवाई के दौरान जस्टिस जाधव ने कहा कि नवाब मलिक वीआईपी हैं, इसलिए उन्हें सारे दस्तावेज इतनी आसानी से मिल जाते हैं। इस मामले को आगे बढ़ाते हुए जस्टिस कथावाला ने यह भी कहा कि वह मंत्री हैं और यह सब उन्हें क्या सूट करता है?

Also Read

कोर्ट का सवाल- आप चाहते हैं मीडिया ट्रायल?

सुनवाई के दौरान एक वक्त ऐसा भी आया जब जस्टिस कथावाला को यह कहना पड़ा कि क्या नवाब मलिक सिर्फ मीडिया ट्रायल चाहते हैं। ऐसा इसलिए कहा गया क्योंकि नवाब मलिक लगातार सोशल मीडिया के जरिए वानखेड़े परिवार पर आरोप लगा रहे थे। इस पर कोर्ट ने सवाल किया कि क्या मलिक ने कभी कास्ट स्क्रूटनी कमेटी से शिकायत की थी? जस्टिस कथावाला ने कहा कि मलिक ने एक बार भी ऐसा नहीं किया। साथ ही उन्होंने कहा कि नवाब मलिक वानखेड़े के खिलाफ मीडिया ट्रायल चाहते हैं।

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles