1993 मुम्बई बम धमाकों के आरोपी अबू सलेम को नही मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत

सुप्रीम कोर्ट ने 1993 बम धमाकों के आरोपी अबू सलेम को बड़ा झटका दिया है। मुम्बई की तलोजा जेल से दिल्ली की तिहाड़ जेल स्थानांतरित करने वाली उसकी याचिका को खारिज कर दिया है। इसके अलावा अब सलेम ने एक याचिका में अपनी हिरासत को गैरकानूनी ठहराने का आवेदन किया था। 

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एस ए बोवड़े ने कहा कि हाई कोर्ट में याचिकाकर्ता अपील दायर करने के लिए स्वतंत्र है।लेकिन सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका के तहत दाखिल की गई याचिका को खारिज किया जाता है। 

Read Also

दाखिल याचिका के माध्यम से अब सलेम ने कहा था कि उसे दिल्ली की तिहाड़ जेल ट्रांसफर कर दिया जाय। जिससे एमिकस उससे बात कर सके और कुछ दस्तावेज ले सके। साथ ही कहा कि प्रत्यर्पण के अनुसार उसकी हिरासत गैरकानूनी है।

आपको बता दे कि मुम्बई बम धमाकों के आरोपी अबू सलेम को कोर्ट ने उम्र कैद की सजा सुनाई थी। जिसकी वह सजा काट रहा है। वह 1995 में बिल्डर प्रदीप जैन की हत्या का भी आरोपी है। इसके लिए उसे 25 वर्ष की कैद हुई है। अबू सलेम को 20 सितंबर 2002 में पुर्तगाल के लिस्बन में गिरफ्तार किया गया था। और वर्ष 2005 में प्रत्यर्पण संधि के तहत उसे भारत को सौंपा गया था। लिस्बन कोर्ट ने प्रत्यर्पण का आदेश देते हुए कहा था कि अबू सलेम को फांसी की सजा नही दी जा सकती है।

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles