कोर्ट में महिला ने घरेलू हिंसा मामले में कहा जब तक केस चलेगा तब तक पति डरेगा

मध्यप्रदेश-भोपाल जिला कोर्ट में महिला ने अपने पति के खिलाफ पहले घरेलू हिंसा की शिकायत दर्ज कराई थी। डिस्ट्रिक्ट कोर्ट द्वारा कॉउंसलिंग होंने के बाद पति पत्नी साथ मे रह रहे थे। लेकिन हर बार जब मामले के निपटारे की बात आती तो पत्नी यह कहकर पलट जाती की वह केस वापस नही लेगी।

इस बार महिला के पति ने कोर्ट में बच्चों के बेहतर भविष्य की दुहाई देते हुए प्रकरण के निराकार की गुहार लगाई है। पति ने कोर्ट में कहा कि मैं और मेरे बच्चे चाहते हैं कि कोर्ट कचहरी का चक्कर खत्म हो। महिला अपनी बात पर अडिग थी कि उसके द्वारा पति के खिलाफ दायर याचिका लंबित रहने दे क्योंकि इससे पति डर कर रहता है

Read Also

पति ने इस प्रकरण को समाप्त करने के लिए कोर्ट के न्यायाधीश से कहा है कि वह लिखित में देने को तैयार है कि वह आजीवन यही समझता रहेगा की उसकी पत्नी ने कोर्ट में केस फ़ाइल कर रखा है। न्यायाधीश ने महिला को समझाते हुए कहा है कि समझौते के बाद भी बाद बिगड़ती है तो उसके पास कई ऑप्शन हैं। जिससे महिला समझौते के लिए तैयार हो गई है।


कुटुंब न्यायालय के जस्टिस आरएन चंद और जस्टिस योगेश दत्त शुक्ला एवं जस्टिस भावना साधौ ने 38 परिवारों के बीच समझौते कराए।

कुटुंब न्यायालय ने समझौता कराके वापस लौटने वाले दम्पत्ति को एक दूसरे को वरमाला पहना कर और सात फेरे दिलवाने के साथ सोशल डिस्टेंसिग की अहमियत को बताया।

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles