मद्रास हाई कोर्ट ने सेंथिल बालाजी के खिलाफ PMLA मुकदमे को पूरा करने के लिए दी चार महीने की और मोहलत

बुधवार को मद्रास हाई कोर्ट (MHC) ने पूर्व तमिलनाडु मंत्री वी सेंथिल बालाजी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले की सुनवाई पूरी करने के लिए प्रधान सत्र न्यायाधीश (PSJ) को चार महीने की और मोहलत दी। यह विस्तार बालाजी की पिछले साल प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा की गई गिरफ्तारी के बाद आया है।

पहले, मद्रास हाई कोर्ट के न्यायमूर्ति एन आनंद वेंकटेश ने 28 फरवरी को सेंथिल बालाजी द्वारा दायर जमानत याचिका को खारिज कर दिया था। उस समय, न्यायमूर्ति ने PMLA मामलों की सुनवाई करने वाले विशेष अदालत को आदेश दिया था कि वे इस मामले की सुनवाई जल्द से जल्द, आदर्श रूप से दिन-प्रतिदिन के आधार पर करें और तीन महीने के भीतर इसे पूरा करें। यह निर्देश तब दिया गया था जब बालाजी लगभग आठ महीने से हिरासत में थे।

जैसे-जैसे तीन महीने की समय सीमा समाप्त होने के करीब आई और मामले की सुनवाई अभी तक शुरू नहीं हुई थी, प्रधान सत्र न्यायाधीश एस अली ने मद्रास हाई कोर्ट से कार्यवाही पूरी करने के लिए अधिक समय मांगा। इस अनुरोध के जवाब में, न्यायमूर्ति जी जयचंद्रन ने मुकदमे को पूरा करने के लिए चार और महीने की मोहलत दी और सेंथिल बालाजी को अदालत के साथ पूर्ण सहयोग करने का निर्देश दिया।

सेंथिल बालाजी, द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK) के एक प्रमुख नेता हैं, जिन्हें 14 जून, 2023 को ED द्वारा गिरफ्तार किया गया था। मनी लॉन्ड्रिंग का यह मामला उस नकदी-के-बदले-नौकरी घोटाले से संबंधित है, जो उनके पहले AIADMK सरकार के दौरान परिवहन मंत्री रहते हुए हुआ था।

इस विस्तार का उद्देश्य एक व्यापक और निष्पक्ष सुनवाई प्रक्रिया सुनिश्चित करना है, जिससे सभी संबंधित पक्ष अपने मामले को पूरी तरह से प्रस्तुत कर सकें।

Law Trend
Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles