दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने अंतरिम जमानत आदेश पर रोक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की याचिका वापस ली, व्यापक अपील का विकल्प चुना

हाल की घटनाओं में, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली हाईकोर्ट  द्वारा उनकी जमानत पर अंतरिम रोक के आदेश को चुनौती देने वाली अपनी याचिका सुप्रीम कोर्ट से वापस ले ली है। यह वापसी जस्टिस मनोज मिश्रा और जस्टिस एसवीएन भट्टी की अवकाश पीठ के समक्ष हुई। पीठ ने केजरीवाल को अपनी याचिका वापस लेने की अनुमति दी और उन्हें हाईकोर्ट  के फैसले के खिलाफ व्यापक अपील करने की स्वतंत्रता दी।

यह विकास तब हुआ जब दिल्ली हाईकोर्ट  ने 25 जून को एक विस्तृत आदेश जारी किया, जिससे केजरीवाल, वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी द्वारा प्रतिनिधित्व करते हुए, अपनी कानूनी रणनीति पर पुनर्विचार करने के लिए प्रेरित हुए। सिंघवी ने मामले में तेजी से हो रहे घटनाक्रमों, जिसमें केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) द्वारा नई गिरफ्तारी भी शामिल है, का उल्लेख किया। सिंघवी ने अदालत को बताया, “दैनिक घटनाक्रमों और CBI द्वारा नवीनतम गिरफ्तारी को देखते हुए, हम यह आवश्यक समझते हैं कि हम एक व्यापक अपील दाखिल करें जो सभी प्रासंगिक विवरणों को शामिल करती है और 25 जून के हाईकोर्ट  के आदेश को चुनौती देती है जिसमें जमानत आदेश को अंतिम रूप से स्थगित कर दिया गया था।”

इस कानूनी लड़ाई का संदर्भ एक कथित शराब घोटाले से जुड़ा है, जिसमें प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने केजरीवाल के खिलाफ महत्वपूर्ण सामग्री प्रस्तुत की है, जिसे हाईकोर्ट  ने महसूस किया कि प्रारंभिक जमानत प्रदान करते समय निचली अदालत द्वारा पूरी तरह से सराहा नहीं गया था। मंगलवार को, सुप्रीम कोर्ट सत्र से पहले, हाईकोर्ट  ने निचली अदालत के जमानत आदेश पर रोक लगा दी और ED द्वारा प्रस्तुत तथ्यों की निचली अदालत की सराहना में खामियों का हवाला दिया।

Also Read

इसके अतिरिक्त, बुधवार को, एक दिल्ली अदालत ने कथित शराब घोटाले के संबंध में मुख्यमंत्री को औपचारिक रूप से गिरफ्तार करने के लिए CBI के अनुरोध को स्वीकार कर लिया। केजरीवाल के लिए यह कानूनी झटकों की श्रृंखला मामले की जटिलताओं और बदलते हुए स्वरूप को उजागर करती है। जैसे-जैसे स्थिति विकसित हो रही है, केजरीवाल का व्यापक अपील का विकल्प चुनना यह दर्शाता है कि आने वाले समय में हाईकोर्ट  के हालिया आदेशों को चुनौती देने के लिए एक व्यापक कानूनी लड़ाई का सामना करना पड़ेगा।

Law Trend
Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles