Allahabad HC ने 6 साल की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी किशोर की जमानत अर्जी ठुकराई

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बच्ची के साथ रेप करने वाले आरोपी किशोर की जमानत को खारिज कर दिया । 

इलाहाबाद हाई कोर्ट

कोर्ट ने 6 साल की बच्ची के साथ रेप की घटना को अंजाम देने वाले किशोर की जमानत याचिका को ठुकरा दिया है। 

हाई कोर्ट के समक्ष संसोधन याचिका फ़ाइल की गई जिसमें जस्टिस पोस्को न्यायलय द्वारा दिये गए आदेश को चुनौती दी गई थी
और जमानत याचिका को खारिज कर दिया गया था।

कोर्ट ने दोबारा याचिका को खारिज कर दिया और अपराध को जघन्य मानते हुए
आरोपी को जमानत देने से इनकार कर दिया। 

पूरा मामला-  

पीड़ित पक्ष द्वारा लिखाई गई एफआईआर में पीड़ित बच्ची घर के पास बने पार्क में बच्चों के साथ खेल रही थी
तब आरोपी किशोर 6 वर्षीय बच्ची को जबरन घसीट कर अपने साथ ले गया और उसके साथ रेप किया बच्ची की हालत
देख बच्ची की माँ ने नजदीकी थाने में आरोपी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई।

जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड-  

आरोपी किशोर के वकील ने जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड से समपर्क किया और उसे 14 वर्ष का नाबालिक ठहराते हुए जमानत
याचिका दाखिल की जिसे जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने सिरे से खारिज कर दिया।जिसके बाद सत्र न्यायाधीश के सामने जामनत
की अपील को दाखिल किया गया जिन्होंने अपील को खारिज कर दिया 

जिसके बाद आरोपी किशोर के वकील इलाहाबाद हाई कोर्ट में अपील लेकर पहुँचे।

और आरोपी को कानून की नजरिये से एक बच्चा बताते हुए कहा कि उसकी उम्र महज 14 वर्ष है और उसे जमानत मिलनी चाहिए।

और तर्क दिया कि जमानत पर विचार करते समय मामले की योग्यता और
किये हुए अपराध की गंभीरता पर विचार नही किया जाना चाहिए।

दूसरी तरफ पीड़ित पक्ष के वकील का कहना है कि आरोपी किशोर को जमानत पर नही रिहा किया जाना चाहिए
क्योंकि उसने एक छः साल की बच्ची के साथ रेप किया है।

आरोपी के इस अपराध के कारण समाज चिंतित है और वह अपने छोटे बच्चों को बाहर निकलने में असहज महसूस करेंगे।

अंत मे माननीय न्यायालय ने माना कि अगर आरोपी को जमानत पर रिहाई मिल जाती तो
लोगों का न्याय पर से भरोसा उठ जाता।

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles