किसी महिला के दूसरे व्यक्ति से संबंध होने का अर्थ यह नही कि वह अच्छी माँ नही है:हाई कोर्ट

अगर कोई विवाहित महिला शादी उपरांत संबंध में है तो भी उसे अपने बच्चे को पास में रखने के हक को खारिज नही किया जा सकता। किसी महिला के दूसरे व्यक्ति से संबंध के आधार पर यह नही कहा जा सकता कि वह अच्छी माँ साबित नही होगी।

बच्चे की कस्टडी को लेकर एक मामले की सुनवाई के दौरान पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट ने यह आदेश दिया। कोर्ट का कहना है कि एक पितृसत्तात्मक समाज मे अमूमन देखा गया है कि महिला के चरित्र को लेकर सवाल उठाए जाते रहे है और कई मर्तबा इनका कोई आधार भी नही होता है ।

पंजाब के फतेहगढ़ साहिब जिले की महिला ने अर्जी दाखिल कर अपनी साढ़े 4 साल की बेटी की कस्टडी मांगी थी, जबकि वह अपने पति से अलग हो चुकी है,जो ऑस्ट्रेलिया के नागरिक है।

हाई कोर्ट के जस्टिस अनुपिन्दर सिंह ग्रेवाल ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि बच्ची को महिला को सौंपा जाना चाहिए,जो फिलहाल ऑस्ट्रेलिया में ही रह रही है।

महिला से अलग होकर रह रहे पति ने आरोप लगाया था कि उसकी पत्नी एक रिश्तेदार के साथ विवाहोतर संबंध में है। इस पर कोर्ट ने कहा कि यह मनगढंत बयान लगता है। इसके समर्थन में कोई सबूत नही पेश किया गया है। कई बार पितृसत्तात्मक समाज मे महिला पर यूं ही चरित्रहीन होने का लांछन लगा दिया जाता है,जबकि कई बार इसका कोई आधार भी नही होता।

यही नही कोर्ट ने कहा कि अगर कोई शादीशुदा महिला एक्स्ट्रा मैरीटल रिलेशनशिप में है तो भी उसे लेकर यह नही कहा जा सकता कि वह एक अच्छी माँ नही है। यह तर्क बच्चे की कस्टडी उसे न देने का आधार नही हो सकता।

न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा कि हिंदू माइनॉरिटी एंड गार्जियंनशिप एक्ट 1956 के सेक्शन 6 के अनुसार एक महिला 5 वर्ष की उम्र तक अपने बच्चे की प्राकृतिक गार्जियन होती है। जज ने कहा कि इस उम्र में बच्चों को प्यार देखभाल और अनुराग की आवश्यकता होती है। किशोरावस्था में बच्चे के लिए माँ का सहयोग बेहद आवश्यक होता है।

Also Read

याचिका में महिला ने कहा था कि उनकी शादी 2013 में हुई थी। पति ऑस्ट्रेलिया के नागरिक है और इसके चलते वह भी ऑस्ट्रेलिया ही चली गई थी। दोनों के घर मे जून 2017 में एक बेटी का जन्म हुआ था। हालाँकि कुछ समय बाद दोनों में अनबन शुरू हो गई और फिर अलग ही रहने लगे । महिला ने कहा कि जनवरी 2020 में हम भारत आये थे,लेकिन उसके बाद पति बेटी को लेकर वापस ऑस्ट्रेलिया चला गया जिसकी कस्टडी मुझे चाहिए।

Download Order

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles