All HC ने रेप के मामले में आपराधिक कार्यवाही को किया निरस्त

हाल ही में, Allahabad High Court ने एक बलात्कार के मामले में आपराधिक कार्यवाही को रद्द कर दिया है, क्योंकि दोनों पक्षों में सौहार्दपूर्ण सुलह हो गयी थी।

दोनो ने शादी कर ली

सीजेएम, हाथरस द्वारा पारित 14.02.2019 के आदेश को चुनौती देते हुए धारा 482 सीआरपीसी के तहत एक आवेदन दायर किया गया था।

आवेदक के खिलाफ धारा 363, 366, 376 आईपीसी के तहत आपराधिक कार्यवाही शुरू की गई थी।

आवेदक नंबर 1 खजान सिंह और विपक्षी पार्टी नं 2 रेखा सुनवाई के दिन कोर्ट में मौजूद थे।

उनके बयान के अनुसार, उन्होंने शादी कर ली है और पति-पत्नी के रूप में खुशी-खुशी जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

यह कहा गया कि रेखा के पिता ने एक झूठी प्राथमिकी दर्ज की,

लेकिन अब जब पार्टियों ने समझौता कर लिया है, तो वे चाहते हैं कि कार्यवाही को समाप्त कर दिया जाए।

उनके आवेदन को संबंधित न्यायालय ने दिनांक 14.02.2019 को खारिज कर दिया, क्योंकि न्यायालय के पास गैर-कंपाउंडेबल अपराधों में इस तरह के समझौते में आदेश पारित करने का अधिकार क्षेत्र नहीं है।

बलात्कार की आपराधिक प्रक्रिया समाप्त

इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के ज्ञानी सिंह बनाम पंजाब राज्य के फैसले का हवाला दिया। इसमें सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि पार्टियाँ कुछ संज्ञेय और गैर-कंपाउंडेबल अपराधों में भी समझौता कर सकती हैं।

तत्काल मामले में, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा कि कार्यवाही को लंबा करने का कोई मतलब नहीं था क्योंकि पार्टियों ने पहले ही अपना विवाद सुलझा लिया है।

अतः दिनांक 14.02.2019 को सीजेएम द्वारा पारित आदेश, हाथरस को निरस्त कर दिया गया। 

नतीजतन मामले में आपराधिक कार्यवाही को भी रद्द कर दिया गया।

इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा धारा 482 सीआरपीसी के तहत दायर आवेदन को अनुमति दी गयी।

Case Details:-

Title: Khajan Singh And Another vs State of UP and Another

Case No.APPLICATION U/S 482 No. – 17985 of 2019

Date of Order: 08.10.2020

Coram: Hon’ble Justice Manju Rani Chauhan

Counsel for Applicant:- Pankaj Sharma, Prashant Sharma 

Counsel for Opposite Party:- GA.

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles