सड़क हादसों पर हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी:-हेलमेट न पहनना मौत का कारण, दुर्घटना का नही

केरल हाई कोर्ट ने दुर्घटना मुआवजे के मामले में ट्रिब्यूनल के उस निर्णय को रदद कर दिया जिसमे मृतक के हेलमेट न पहनने के कारण मुआवजा की रकम घटाई गई थी। दरअसल मोटरसाइकिल में पीछे बैठे की हादसे में मौत हो गई थी। ट्रिब्यूनल ने उसके हेलमेट न पहनने को लापरवाही मानते हुए मुआवजा राशि कम कर दी थी। इस फैसले को मृतक के घरवालों ने हाई कोर्ट में चुनौती दी थी।

हाई कोर्ट ने कहा कि हादसे के वक्त बाइक में पीछे बैठे व्यक्ति ने हेलमेट न पहनकर कानून का उल्लंघन किया है,लेकिन ऐसा नही माना जा सकता कि उठाने लापरवाही बरती। हादसे में लापरवाही हर मामले में तथ्य और परिस्थिति के हिसाब से तय होगी। कोर्ट ने माना कि उसने हेलमेट पहना होता तो उसकी जान बच सकती थी।

चोट इतनी गंभीर नही होती कि जान चली जाय, लेकिन हेलमेट न पहनने को हम बाइक में टक्कर मारे जाने का कारण नही कह सकते। साथ ही कहा कि यह तय करने की आवश्यकता है की जो हादसा हुआ उसमे उस लापरवाही की हिस्सेदारी थी। 

लापरवाही में उसकी हिस्सेदारी के लिए साक्ष्यों की जरूरत होगी। हालांकि कोर्ट ने आगाह किया की उसके इस आदेश को बगैर हेलमेट पहने गाड़ी चलाने का लाइसेंस न समझा जाए।

यह भी पढ़ें

गौरतलब है कि यह पूरा मामला 8 अगस्त 2007 का है। मोहम्मदकुट्टी बाइक पर जा रहे थे।बाइक उनका बेटा चला रहा था,तभी सामने से आ रहे वाहन ने उनकी मोटरसाइकिल में टक्कर मार दी। इस हादसे में दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। इलाज के दौरान मोहम्मदकुट्टी की मौत हो गई। मृतक के परिजनों के लिए 33,03,700 रुपयों का मुआवजा पास हुआ लेकिन ट्रिब्यूनल ने मोहम्मदकुट्टी की मौत का कारण हेलमेट न पहनना और लापरवाही मानते हुए मुआवजा राशि से 20 फीसदी राशि काट दी थी। 

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles