बार एसोसिएशन ने वकीलों की आर्थिक तंगी को देखकर मुकदमे की न्यूनतम फीस तय की

उत्तरप्रदेश—-ताला नगरी अलीगढ़ नाम से देश मे प्रसिद्ध शहर के बार एसोसिएशन ने प्रेस रिलीज जारी किया है जिसमे कहा गया है कि कोरोना काल में बीते दो वर्षों के दौरान अधिवक्तागण साथियों के समक्ष जो आर्थिक समस्याएं उत्पन्न हुई है,उसको ध्यान में रखते हुए दी अलीगढ़ बार एसोसिएशन ऐसा महसूस कर रहा है कि न्यायिक कार्य को करने के लिए अधिवक्तागण की न्यूनतम फीस निर्धारित की जाय।

अतः दी अलीगढ़ बार एसोसिएशन अलीगढ़ विभिन्न न्यायिक कार्यों को करने के लिए अधिवक्तागण की न्यूनतम फीस का निर्धारण कर रही है। कोई भी वकील तय फीस से कम फीस नही लेगा।

किस केस की क्या फीस है—-दी अलीगढ़ बार एसोसिएशन द्वारा निर्धारित वकीलों की केस के हिसाब से फीस कुछ इस प्रकार है। 

Also Read

स्टेट केस और कंप्लेंट केस के लिए मुवक्किल को 11 हजार रुपये फीस देनी होगी इसके साथ ही प्रोटेस्ट पिटीशन के लिए 5500 रुपये अदा करना होगा।बेल के लिए स्टेट केस और कंप्लेंट केस के लिए 5500 रुपये चुकाना होगा। और डोमेस्टिक वायलेंस खव लिया 5500 देना होगा। मजिस्ट्रेट ट्रायल बेल के लिए 5500, सेशन ट्रायल बेल के लिए 11000,एंटीसिपेटरी बेल के लिए 5500, अपील के लिए 7500, कंप्लेंट केस के लिए 5100, सेशन ट्रायल के लिए 21 हजार, क्रिमिनल केस के लिए 2100 और पारिवारिक मामलों और शादी से जुड़े मामलों के लिए 1100 शुल्क वकीलो को लेना होगा।

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

7 COMMENTS

  1. बेईमानी सरासर लूटने की तरीकव है करोना तो शिर्फ बहाना है मै निंदा करता हूँ।

  2. What if a client case is not properly made or represented. Fee is per case basis or per appearance basis not cleared. How much money an advocate demand for certified true copies. What is the miscellaneous expenditure ever time taken from the client even if an adjournment is sought with consent of both side advocate. If a case is fixed for argument and the advocate does not appear or argue the case on grounds that he is not well prepared for the arguments. What is remedy to a client against such advocates. Money is demanded to remove court stamp from a fixed deposit given as surety in a case. The Bar Association must deliberate upon such expenditure and bring transparency in the working of Advocates. What is remedy against professional negligence.

  3. I applaud the bold move of the office bearers of The Aligarh Bar Association who had taken a firm decision to fix a minimum fees standard for all genuine Professional Advocate ,members of Bar. This decision is commendable because it will generate a sense of self esteem and self respect amongst very member of bar to protect and uphold the minimum charges for their professional services.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles