हिरासत में मौत के मामले में तीन पुलिस कांस्टेबल दोषी करार, दस साल की सजा

एक ऐतिहासिक फैसले में, एक विशेष अदालत ने तीन पुलिस कांस्टेबलों केशरी नंदन, सुरेश सिंह और सियाराम यादव को हिरासत में मौत के एक मामले में दोषी करार देते हुए दस साल की सजा सुनाई है। प्रत्येक कांस्टेबल पर 20,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

यह घटना रामकोट पुलिस स्टेशन की कांतिली चौकी पर हुई, जहां मृतक डालचंद को हिरासत में लिया गया था और बाद में पाया गया कि उसने अपने सेल में फांसी लगा ली थी, जिससे समुदाय में हड़कंप मच गया और कानूनी मामला सामने आया। आरोपों को औपचारिक रूप से 3 अप्रैल, 2006 को अदालत में पेश किया गया।

एससी-एसटी विशेष अदालत के पीठासीन न्यायाधीश मोहम्मद शफीक ने लंबी सुनवाई के बाद कांस्टेबलों को दोषी पाया। अभियोजन पक्ष का नेतृत्व अरुण कुमार अग्निहोत्री और अतुलंजय कुमार तिवारी ने किया, जबकि बचाव पक्ष का प्रतिनिधित्व अभय प्रताप सिंह ने किया।

सूत्रों से पता चला है कि दोषी करार दिए गए कांस्टेबलों में से एक वर्तमान में बहराइच जिले में तैनात है, जबकि अन्य दो पुलिस सेवा से सेवानिवृत्त हो चुके हैं। वारंट जारी होने के बाद तीनों को हिरासत में ले लिया गया है।

Law Trend
Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles