सरोगेट मदर महिला कर्मी भी मातृत्व अवकाश की हकदार

हिमांचल प्रदेश हाई कोर्ट ने एक व्यवस्था दी है कि सरोगेसी से मां बनी महिला कर्मचारी भी मातृत्व अवकाश की हकदार है। 

न्यायमूर्ति तरलोक सिंह और न्यायाधीश संदीप शर्मा की खंडपीठ ने सुषमा देवी की ओर से दाखिल याचिका पर फैसला सुनाते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा कि मातृत्व अवकाश का अर्थ महिलाओं का सामाजिक न्याय सुनिश्चित करवाना है।

मातृत्व और बचपन दोनों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है। मातृत्व अवकाश देते वक्त न केवल माँ और बच्चे के स्वास्थ्य मुददो पर विचार किया जाता है,बल्कि दोनों के आपसी स्नेह का बंधन बनाने के लिए छुट्टी प्रदान की जाती है।

सरोगेसी के जरिए बनी माँ और एक प्राकृतिक मां में भेदभाव करने से नारीत्व का अपमान होगा। बच्चे के जन्म पर मातृत्व कभी समाप्त नही होता।

Also Read

इसी कारण सरोगेसी के माध्यम से बच्चा पाने वाली मां को मातृत्व अवकाश से मना नही किया जा सकता है। 

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles