जज हम है की रजिस्ट्री? सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस चंद्रचूड़ ने जतायी नाराज़गी

एक हफ्ते में दूसरी बार सुप्रीम कोर्ट के जज ने सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री से मामलों को लिस्ट से हटाए जाने पर नाराजगी जताई है। इस बार जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने मामले को हटाए जाने पर नाराजगी जताते हुए पूछा, ‘हम जज हैं या रजिस्ट्री?

जस्टिस चंद्रचूड़ ने सोमवार को रजिस्ट्री के संचालन पर आपत्ति जताई। जस्टिस एमआर शाह ने पिछले हफ्ते इसी तरह के एक मामले पर नाराजगी जताई थी।

कोर्ट मास्टर ने जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एएस बोपन्ना की पीठ को एक मामले की जानकारी दी जिसमें रजिस्ट्री ने मामले को लिस्ट से हटा दिया था।

जस्टिस चंद्रचूड़ की बेंच ने इस पर हैरानी और नाराजगी जताते हुए कहा, हम जज हैं या रजिस्ट्री? एक सीमा है; अगर इसे हटाना है तो कम से कम यह तो बताना चाहिए कि इसे क्यों हटाया जा रहा है।

जस्टिस चंद्रचूड़ के मुताबिक, हम केस पढ़ते हैं और आते हैं, बस इतना बताया जाता है कि रजिस्ट्री ने उन्हें हटा दिया है।

Join LAW TREND WhatsAPP Group for Legal News Updates-Click to Join

पिछले सप्ताह न्यायमूर्ति शाह ने एक विशेष दिन के लिए रजिस्ट्री में रखे गए मामलों को हटाने की प्रथा पर नाराजगी व्यक्त की थी। जैसा कि जस्टिस शाह ने बताया, वह (रजिस्ट्रार) कौन है जो फैसला करेगा? यह उनकी जिम्मेदारी नहीं है। हम निर्णय लेंगे। उनका दावा है कि अगर और मामले होंगे तो उन्हें हटा दिया जाएगा। यह काम नहीं करेगा। ऐसा नहीं है कि यह कैसे काम करता है। यह तय करने वाला वह कौन होता है कि कितने मामले बहुत अधिक हैं? मैं मालिक हूं।

आम्रपाली समूह के पूर्व सीईओ को मिली अंतरिम जमानत

सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल आधार पर आम्रपाली ग्रुप के पूर्व सीएमडी अनिल कुमार शर्मा को चार हफ्ते के लिए अंतरिम जमानत दे दी। सुप्रीम कोर्ट ने चार अगस्त को मेडिकल आधार पर शर्मा की जमानत याचिका पर नोटिस जारी किया था।

न्यायमूर्ति यूयू ललित की अगुवाई वाली पीठ ने अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल (एएसजी) ऐश्वर्या भाटी को शर्मा की चिकित्सा स्थिति पर एक रिपोर्ट जमा करने का निर्देश दिया और 8 अगस्त को सुनवाई निर्धारित की।

सोमवार को अंतरिम जमानत देते हुए पीठ ने शर्मा को चार सप्ताह के बाद आत्मसमर्पण करने को कहा।

Get Instant Legal Updates on Mobile- Download Law Trend APP Now

Related Articles

Latest Articles