आज हम आपको रूबरू कराएंगे राजनीति के उन धुरंधरों से जिन्होंने लॉ की पढ़ाई की

लॉ एजुकेशन मौजूदा दौर में समस्त कैरियर विकल्पों में से एक है। अच्छे लॉ के संस्थानों से पढ़ाई करने के बाद युवा पीढ़ी अपने सपनो को साकार कर सकते हैं। लेकिन लोगों के मन मे लॉ की पढ़ाई को लेकर एक मिथ्य है की इस पढ़ाई के बाद केवल वकालत के प्रोफेशन में ही कैरियर बना सकते है। 

जो कि सरासर गलत अवधारणा है। लॉ की पढ़ाई के उपरांत कैरियर के अनेकों रास्ते खुल जाते हैं। यहाँ तक कि देखा गया है कि लॉ की शिक्षा ग्रहण करने के बाद एक से एक महारथी लोगों ने राजनीति के क्षेत्र में अपना सिक्का जमाया है। उनको लॉयर्स ऑफ द लीडर्स भी कहा जाता है। ऐसे ही कुछ राजनेताओं को आपसे मुखातिब कराएंगे।

राम जेठमलानी- राम जेठमलानी (जन्म : 14 सितम्बर 1923 – मृत्यु : 8 सितम्बर 2019) एक सुप्रसिद्ध भारतीय वकील और राजनीतिज्ञ थे। 6ठी व 7वीं लोक सभा में वे भारतीय जनता पार्टी से मुंबई से दो बार चुनाव जीते थे। बाद में अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में केन्द्रीय कानून मन्त्री व शहरी विकास मन्त्री रहे थे। किसी विवादास्पद बयान के चलते उन्हें जब भाजपा से निकाल दिया था तो उन्होंने वाजपेयी के ही खिलाफ लखनऊ लोकसभा सीट से 2004 का चुनाव लड़ा था किन्तु हार गये।

सलमान खुर्शीद–इनके बारे में कौन नही जानता होगा यह वरिष्ठ अधिवक्ता के साथ साथ प्रखर वक्ता और लॉ के अध्यापक है। इन्होंने वर्ष 1981 में राजनीति में कदम रखा । 2011 में कानून मंत्री का पदभार भी संभाल चुके हैं।

सुब्रमण्यम स्वामी- मौजूदा समय मे सांसद और अपने हाजिर जवाबी के लिए मशहूर सुब्रमण्यम स्वामी लॉ की पढ़ाई कर चुके है। यह संसद भवन में अपनी बात बेबाकी से तो रखते हैं ही साथ ही अदालत में भी अच्छे अच्छे धुरंधरों को मात दे चुके हैं। और हावर्ड यूनिवर्सिटी में लॉ की क्लास भी लेते हैं। 

अरुण जेटली- दिवंगत नेता अरुण जेटली दिल्ली हाई कोर्ट के सीनियर एडवोकेट रह चुके हैं। इन्होंने वर्ष 1977 में दिल्ली यूनिवर्सिटी से लॉ की शिक्षा ग्रहण की थी। और भारत के वित्त मंत्री भी रह चुके हैं। 

पी चिदंबरम- इन्होंने अपने वकालत की शुरुआत एक कॉरपोरेट लॉयर के तौर पर की थी। वर्ष 1948 में यह एक सीनियर लॉयर बन चुके थे। इन्होंने सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट में भी वकालत की है। साथ ही देश के गृहमंत्री और वित्तमंत्री का भी पद भार संभाल चुके हैं। इन्होंने लोकसभा में अबतक 7 बार केंद्रीय बजट पेश कर चुके हैं। 

प्रशांत भूषण- अन्ना हजारे के जनलोकपाल आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभाने वाले प्रशांत भूषण भारतीय राजनीति का प्रसिद्ध चेहरा है। यह अपनी जनहित याचिकाओं के कारण हमेशा सुर्खियों में रहते हैं। 

हमने आपको उन व्यक्तियों से मुलाकात करवाई जिन्होंने लॉ की पढ़ाई कर ऊंचे मुकाम हासिल किए। इसके अलावा भी कुछ प्रसिद्ध राजनेता हैं जिन्होंने अपनी अलग पहचान बनाई। उनके नाम इस प्रकार हैं– महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू, डॉ राजेन्द्र प्रसाद, सरदार पटेल, रवि शंकर प्रसाद, कपिल सिब्बल, अभिषेक मनु सिंधवी, आदि।

Also Read

Download Law Trend App

Law Trendhttps://lawtrend.in/
Legal News Website Providing Latest Judgments of Supreme Court and High Court

Related Articles

Latest Articles